.

.

कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण ने निर्माणाधीन सीस वरूणा क्षेंत्र में चल रहे सीवरेज कार्य के प्रगति की समीक्षा


कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण ने निर्माणाधीन सीस वरूणा क्षेंत्र में चल रहे सीवरेज कार्य के प्रगति की समीक्षा

समीक्षा के दौरान धीमी प्रगति पर जताई गहरी नाराजगी

वाराणसी/कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण ने जायका योजनान्तर्गत लगभग 500 करोड़ लागत की निर्माणाधीन सीस वरूणा क्षेंत्र में चल रहे सीवरेज कार्य के प्रगति की समीक्षा के दौरान धीमी प्रगति पर गहरी नाराजगी जतायी तथा युद्वस्तर पर अभियान चलाकर कार्यो को निर्धारित समयसीमा एवं गुणवत्ता के साथ पूरा कराये जाने का निर्देश दिया। सीवरेंज कार्य में कार्यदायी संस्था द्वारा 200 व 225 मिमी0 के रीजेक्टेड पाइपों का प्रयोग किये जाने की जानकारी पर बिफरते हुए उन्होने गुणवत्ता के साथ कोई समझौता न किये जाने की सख्त हिदायत दी तथा कार्य स्थल से दो दिनों के अन्दर रिजेक्टेड पाइपों को हटा लिये जाने की चेतावनी दी।
कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण मंगलवार को मण्डलीय अनुश्रवण कक्ष में जायका परियोजना के प्रगति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होने सीस वरूणा क्षेत्र में मेन ट्रंक सीवर के 80 इन्टर सेप्टर सीवर, 80 सेकेण्डरी सीवर, थ्रीवियर ट्रक सीवर, वरूणा अप/डाउन सीवर लाइन कार्य को प्रत्येक दशा में 30 मई, 2017 तक पूरा कराये जाने का निर्देश देते हुए 15 जून तक उसका हाइड्रो टेस्टिग कराये जाने पर विशेष जोर दिया। चौकाघाट, फुलवरिया एवं सरैसा पम्पिंग मेन कार्य को मई, 2017 तथा चौकाघाट, फुलवरिया एवं सरैया में पम्पिंग स्टेशन के कार्य को 30जून, 2017 तक प्रत्येक दशा में पूरा कराये जाने पर जोर दिया। उन्होने फुलवरिया एवं दीनापुर में भूमि विवाद का हल दो दिनों के अन्दर निस्तारित किये जाने का अपर जिलाधिकारी प्रशासन को निर्देश दिया। लगभग 170 करोड़ रूपये की लागत से दीनापुर में निर्माणाधीन 140 एमएलडी सीवरेंज ट्रीटमेंन्ट प्लान्ट का अब तक 60 फीसदी ही कार्य पूरा होने पर नाराजगी जताते हुए उन्होने व्यक्तिगत रूचि लेकर प्रत्येक दशा में दिसम्बर, 2017 तक पूरा कराये जाने हेतु विभागीय अभियंता को कड़े निर्देश दिये। सौ वर्ष पुराना ओल्ड ट्रक सीवर (शाही नाला) के कार्य में आ रही बाधा को प्राथमिकता पर दूर कराते हुए दिसम्बर, 2017 तक पूरा कराये जाने का निर्देश दिया। उन्होने बताया कि इस नाला का फ्लो डाइवर्जन कर सफाई एवं डिशिल्टिंग करके लाइनिंग किया जाना है। 07 किमी के कार्य में से अब तक आधा से कम ही कार्य किया जा सका है। विभागीय अभियंता ने बताया कि मई, 2017 तक 03 किमी तथा दिसम्बर, 2017 तक कार्य पूरा करा लिया जायेगा। इसके बाद आगामी 50 वर्षो तक यह सीवर लाइन (शाही नाला) कार्य करता रहेगा। कोई समस्या नही आने पायेगी। पुर्नउद्वार कार्यक्रम के तहत 5 घाटो पर बने पम्पिंग स्टेशनों सहित कोनिया पम्पिंग स्टेशन व भगवानपुर एवं दीनापुर के पुराने सीवरेंज ट्रीटमेंन्ट प्लान्ट के पुर्नउद्वार कार्य को भी 30 जून तक हर हालत में पूरा कराये जाने का निर्देश दिया। वरूणापार के जेल रोड पर 2200 मीटर नवनिर्मित सीवर इण्टरशिफ्टिग कराये गये कार्य को बिना टेस्टिंग ही चालू करा दिये जाने की जानकारी पर बिफरते हुए उन्होने जलनिगम के अभियंता को जमकर फटकार लगायी तथा पूरा हो चुके किसी भी सीवरेंज लाइन को बिना टेस्टिंग चालू न कराये जाने की हिदायत दी। जलनिगम द्वारा 69 सेमी0 की जगह 30-35 सेमी0 डाया का 3-4 स्थानों पर सीवरेज कार्य करा दिये जाने की जानकारी पर गहरी नाराजगह जताते हुए उन्होने किये गये कार्यो को क्षतिग्रस्त की निर्धारित मानक के अनुरूप कार्य को पुनः कराये जाने का निर्देश दिया। कमिश्नर ने पिछली बरसात के दौरान शहर के पीलीकोठी एवं आदमपुर सहित अन्य कतिपय स्थानों पर हुए सीवरेंज ओवरफ्लों को संज्ञान लेते हुए अधिकारियों को सख्त निर्देश दिया कि ऐसे क्षेत्रों को चिन्हिंत कर सीवरेंज की प्रर्याप्त सफाई सुनिश्चित कराये तथा इस बार बरसात में मुहल्लो एवं घरो में सीवरेंज के ओवरफ्लों की शिकायत किसी दशा में न आने देने की भी चेतावनी दी। गोदौलिया से गिरीजाघर के बीच सीवरेंज लाइन जुड़े न होने के कारण पिछली बरसात में वहॉ पर हुए जलजमाव के दृष्टिगत् वहॉ पर सीवर को तुरन्त कनेक्ट किये जाने हेतु अपर जिलाधिकारी नगर को कार्यदायी संस्थाओं के साथ बैठक कर तत्काल् कार्य कराये जाने हेतु निर्देशित किया। उन्होने जलनिगम एवं गंगा प्रदुषण नियंत्रण इकाई सहित अन्य कार्यदायी संस्थाओं को निर्देशित किया कि सीवरेंज फ्लडिंग कत्तई नही होने चाहिये। सड़को पर सीवरेंज एवं पेयजल के लीकेंज पाइप लाइनों को चिन्हिंत कर अभियान चलाकर 15 दिनों के अन्दर उसे ठीक कराये जाने का भी निर्देश दिया। दीनापुर, कोनिया, भगवानपुर सहित 5 घाटों के पम्पिग स्टेशनों पर लगाये जाने वालें कुल 29 पम्पों में से अब तक केवल 3 ही लगाये जाने पर कड़ी आपत्ति जताते हुए उन्होने 15 जून तक 21 तथा शेष को जुलाई तक हर हालत में लगाये जाने का निर्देश दिया। पम्प लगाये जाने में देरी पर उन्होने किर्लोस्कर के एमडी से वार्ता एवं पत्र लिखने का भी निर्देश दिया। नगर क्षेत्र में बनने वाले 205 शौचालयों के प्रगति की समीक्षा के दौरान बताया गया कि नगर निगम द्वारा 153 शौचालयों का निर्माण कराया जायेगा। उन्होने शत-प्रतिशत शौचालयों का निर्माण सभी 90 वार्डो को खूले में शौचमुक्त घोषित करने की तय समयसीमा से पूर्व अगस्त तक पूरा कराये जाने पर जोर दिया। उन्होने 04 बन चुके एवं क्रियाशील धोबीघाट का शत-प्रतिशत उपभोग सुनिश्चित कराये जाने पर जोर देते हुए नगर निगम के अधिकारी को निर्देशित किया कि पूर्व सूचना देकर घोबी समाज के लोगो के साथ मौके पर जाकर वहॉ आने वाले उनकी समस्याओं को चिन्हिंत कर उसे दूर कराने तथा शत-प्रतिशत लोगो से इन धोबीघाटों का उपभोग सुनिश्चित कराये जाने का निर्देश दिया।
नगर निगम के तहसीलदार अविनाश सहित जायका, जलनिगम, जलकल एवं अन्य कार्यदायी संस्था के अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

Previous
Next Post »
Thanks for your comment

VIP Breaking...